बाल सफ़ेद हो रहें हैं तो करें ये होम्योपैथिक उपाय

बढ़ती उम्र के साथ बाल सफेद होना आम बात है, लेकिन आजकल कई लोग कम उम्र में ही सफेद बालों की प्रॉब्लम का सामना कर रहे हैं। एक्सपर्ट्स के मुताबिक हमारे बालों का काला रंग मेलानिन (Melanin) नामक पिगमेंट के कारण होता है। ये पिगमेंट बालों की जड़ों की सेल्स में पाए जाते हैं। जब मेलानिन बनना बंद हो जाता है या कम बनने लगता है, तो बाल सफेद होने लगते हैं। क्यों बंद हो जाता है मेलानिन बनना?

बालों में मेलानिन कम बनने या बिल्कुल न बनने की कई वजह हो सकती हैं। इसमें सबसे बड़ी वजह होती है बढ़ती उम्र। उम्र बढ़ने के साथ मेलानिन का प्रोडक्शन कम होने लगता है और इस तरह बाल सफेद होने लगते हैं। लेकिन बढ़ती उम्र अकेली वजह नहीं है। इसके अलावा दवाओं का साइड-इफेक्ट, केमिकल, न्यूट्रीशन की कमी, हार्मोनल चेंजस और पारिवारिक भी हो सकता है |

सफेद बालो के लिए होमियोपैथी उपचार

होमियोपैथी उपचार रोगी के लक्षणों के आधार पर किया जाता है, रोगी के बालो के सफ़ेद होने के कारण का पता लगा कर उपचार करना ही सही रहता है , इसके अलावा होमियोपैथी मदर टिंकचर AMALKI Q की 3 बूंद दिन में तीन बार लगातार लेने से बाल काले होने शुरू हो जाते हैं |

 

अगर आपको लगता है की ये जानकारी  किसी के काम आ सकती है या पोस्ट अच्छी लगी हो तो नीचे दिए या साइड में दिए गए फेसबुक , व्हाट्सएप्प, मैसेंजर, ट्विटर, वीचेट आदि पर शेयर जरुर कर दें |

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 7,565 other subscribers.

2 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *