उफ, ये झाइयाँ….होमियोपैथी उपचार

झाइयाँ अक्सर बढ़ती उम्र के साथ बढ़ती जाती हैं, जो देखने में अच्छी नहीं लगती हैं। तेज धूप के कारण और शारीरिक स्वास्थ्य ठीक न होने के कारण भी चेहरे पर झाइयाँ पड़ जाती हैं। झाइयों की समस्या से घरेलू उपचार...

1- चेहरे की झाइयाँ दूर करने के लिए आप आधा नीबू व आधा चम्मच हल्दी और दो चम्मच बेसन लें। अब इन चीजों को आपस में अच्छी तरह मिलाकर पेस्ट-सा बना लें। अब इस मिश्रण का मास्क चेहरे पर तीन या चार बार लगाए।

2 -चेहरे पर ताजे नीबू को मलने से भी झाइयों में लाभ होता है।

3- चेहरे पर झाइयाँ तेज धूप पड़ने के कारण भी हो जाती हैं। अतः तेज धूप से जहाँ तक हो सके चेहरे को प्रभावित न होने दें।

4 - सेब खाने और सेब का गूदा चेहरे पर मलने से भी झाइयाँ दूर होती हैं।

5 - रात को नींद न आने से भी चेहरे पर झाइयाँ पड़ जाती हैं, जिन्हें दूर करने के लिए रात को सोने से पहले चेहरे को अच्छी तरह धोएँ। फिर एक चम्मच मलाई में तीन या चार बादाम पीसकर दोनों का मिश्रण बना लें, फिर इस मिश्रण को चेहरे पर लगाकर हल्के हाथों से मसाज करें और सो जाएँ। प्रातः उठकर बेसन से चेहरे को धो लें। इस प्रयोग से आपको आश्चर्यजनक लाभ होगा।

6 - झाइयों को समाप्त करने के लिए आप भोजन में सलाद का नियमित प्रयोग करें।

7- दिन में एक गिलास गाजर का रस बिना नमक-मिर्च मिलाए पिएँ  इससे चेहरा तो सुर्ख होगा ही, साथ ही झाइयाँ भी समाप्त हो जाएँगी।

8 - ताजा टमाटर काटकर चेहरे पर हल्के हाथों से मसाज करने से थोड़े दिनों के उपरांत चेहरे की झाइयाँ कम हो जाएँगी और रंगत भी निखर जाएगी।

Homeopathic treatment for Chloasma / Meleasma (झाइयों के लिए होम्योपैथिक उपचार )

होमियोपैथी उपचार शुरू करने से पहले रोगी के लक्षणों के लेना बहुत जरुरी होता है ! जिससे रोग को हमेशा के लिए समाप्त किया जा सके, घरेलु उपचार झाइयों में मदद तो करेंगे लेकिन साथ में होमियोपैथी उपचार लेने से झाइयाँ पूरी तरह जड़ से ही समाप्त हो जाती है !

कुछ होमियोपैथी दवा जैसे barb- aqui Q मदर टिंगचर त्वचा रोग के लिए स्पेसिफिक माना गया है , इस दवा का प्रयोग होम्योपैथिक चिकित्सक की सलाह से ही करें !

अगर आपको लगता है की ये जानकारी  किसी के काम आ सकती है या पोस्ट अच्छी लगी हो तो नीचे दिए या साइड में दिए गए फेसबुक , व्हाट्सएप्प, मैसेंजर, ट्विटर, वीचेट आदि पर शेयर जरुर कर दें |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *